वह सब पाएँ जिसकी आप को आज जरूरत है

खरीद

अपने बिजनेस डेटा को कहीं भी, किसी भी समय एक्सेस करें

Accloud का खरीद मॉड्यूल कच्चे माल, पैकिंग मटेरियल, सब-असेंबली और दूसरे मटेरियल (स्टॉक से संबन्धित नहीं भी) की खरीदी और साथ साथ जस्ट-इन-टाइम वेयरहाऊस मैनेजमेंट को भी सरल और कारगर बनाता है। खरीद मॉड्यूल स्टॉक कंट्रोल और प्रोडक्श्न मॉड्यूल के साथ कसकर एकीकृत भी है। यह, मटेरियल आवश्यकता प्लानिंग (एमआरपी) के द्वारा बनाए खरीद मांग के नोट से लेकर सामान्य वेयरहाऊस स्टॉक आपूर्ति तक की आपके सभी खरीदी जरूरतों को पूरा करेगा।

Accloud के खरीद मॉड्यूल में शामिल हैं:

  • खरीदी
  • बाहर निकालने हेतु डाक्यूमेंट
  • स्टॉक को रिसीव करना
  • खरीदी रिटर्न
  • रिपोर्टिंग

Accloud के खरीद मॉड्यूल से आप यह सब कर पाएंगे:

  • असीमित सप्लायर कांटैक्ट डिटेल (एक ही सप्लायर के कई कांटैक्ट डिटेल भी), पते और उनके रोल आसानी से मैनेज करें
  • खरीदी ऑर्डर के सामने आसानी से स्टॉक और बिल प्राप्त करें
  • चाहे जीतने भी जनरल लैजर खातों के सामने बिल भेजें।
  • चाहे जीतने भी जनरल लैजर खातों के सामने बिल भेजें।
  • सप्लाइयर बिलों को मिलाने के लिए टैक्स राशि को मैनुयली बदलें
  • बिलों का समय से पहले पेमेंट और स्टॉक बाद में प्राप्त करना
  • खरीद ऑर्डरों के हिसाब से बाहर निकालने हेतु डाक्यूमेंटस

खरीदी के मुख्य फीचर्स में शामिल हैं:

  • सप्लायर डिटेल्स
  • रेट लगाने के मॉडल
  • रिपोर्टिंग

हमारे खरीदी मॉड्यूल में किसी सर्विस या माल का पूरा साइकल इस प्रकार है:

जरूरतें पक्की करें: माल की जरूरत कोई एक बिजनेस डिपार्टमेन्ट या फिर आपका मटेरियल प्लानिंग कंट्रोल सिस्टम पक्की करता है। यह खरीदी मटेरियल आवश्यकता प्लानिंग (एमआरपी) के मुताबिक या फिर ज़रूरत के मुताबिक स्टॉक लेने के लिए हो सकती है। आप खरीदी मांग नोट बना सकते हैं या फिर ये आपके मटेरियल प्लानिंग कंट्रोल सिस्टम द्वारा औटोमटिक भी बनाए जा सकते हैं।

सप्लायर्स पक्के करें: Accloud का खरीद मॉड्यूल पिछले ऑर्डरों और लंबी अवधि के खरीदी एग्रीमंट के आधार पर संभावित सप्लायर्स की पहचान करने में मदद करता है। यह कोटेशन के रिक्वेस्ट (आरएफक्यू), जो कि सप्लायर्स को इलेक्ट्रॉनिक रूप में भेजी जा सकती हैं, बनाने के काम को तेज कर देता है।

खरीद ऑर्डर की प्रोसेसिंग : खरीद सिस्टम मांग-नोट और कोटेशन की जानकारी की सहायता से खरीद ऑर्डर बनाता है।

खरीद ऑर्डर का फॉलो-अप: यह सिस्टम सप्लाई के लिए बाकी समय की निगरानी करता है और यदि जरूरी हो तो पूरे खरीद नोटों, कोटेशनों और खरीद ऑर्डरों की अप-टू-डेट जानकारी दे सकता है।

स्टॉक रिसीविंग और स्टॉक मैनेजमेंट: स्टॉक रिसीविंग स्टाफ आसानी से खरीद ऑर्डर नंबर एंटर करके स्टॉक रिसीविंग कनफर्म कर सकते हैं।

बिल की जांच: यह सिस्टम बिलों की चेकिंग और मिलान करने में समर्थ है। इस सिस्टम की खरीद ऑर्डरों और स्टॉक रिसीविंग डाटा में एक्सेस होने के कारण पेमेंट स्टाफ को स्टॉक की मात्रा और रेट में किसी भी अंतर का पता चल जाता है। यह ऑडिट और पेमेंट के लिए बिलों को फाइनल करने के काम को तेज बनाता है।